• Sanjay Sinha

हैं तैयार हम



अपनी शादी के एक हफ्ता पहले मैं अपनी होने वाली पत्नी के साथ बाज़ार गया था। मैंने उससे कहा था कि शादी के बाद पहनने के लिए कुछ साड़ियां खरीद लो। मेरा उससे अनुरोध था कि वो शादी के बाद अपने घर से कोई सामान नहीं लाए। मैं शादी में लड़की वालों से कुछ भी लेने के खिलाफ था, इसलिए मैंने ये तय किया था कि वो अपने घर से अपने कपड़े लेकर भी न आए। उसने मेरी बात मान ली थी। उस दिन उसे कुल चार साड़ियां दिलवा कर मैं निश्चिंत था कि इतने से उसका जीवन कट जाएगा।

बिन मां के बेटों के साथ एक मुश्किल ये होती है कि महिलाओं की ज़रूरतें वो नहीं समझते।

मैंने चार साड़ियां खरीद दीं और खुश होकर दुकान से निकल गया।

भला हो मकान मालकिन आंटी का, जिन्होंने पेटीकोट, ब्लाउज और बाकी ज़रूरतों के बारे में उससे पूछ लिया था।

खैर, ये बातें तब की हैं, जब मैं जनसत्ता में ढाई-तीन हज़ार रुपए की नौकरी करता था। उन दिनों मेरे लिए बाटा सबसे बड़ी और अच्छी कंपनी होती थी। मैं बाटा से जूते, पैंट और शर्ट खरीदता था। मुझे नहीं पता कि बाटा वाले अब शर्ट-पैंट बनाते हैं या नहीं, पर समय के साथ आई उदारता और बढ़ती सैलरी ने हमें भी ब्रांड के लपेटे में ले लिया।

उस दिन चार साड़ियों में मान जाने वाली मेरी पत्नी ने बाद में न जाने कितनी साड़ियां खरीदीं और मैंने न जाने कितने पैंट, शर्ट और जूते।

जब मैं टीवी की दुनिया में आया तो मेरे कपड़ों की चिंता काफी कम हो गई क्योंकि ड्रेस डिजाइनर मेरे कपड़े बनाने लगे। अब मेरे पास इतने कपड़े हैं कि मैं चाहूं तो रोज़ एक नया पहन लूं। आम तौर पर मैं काला और सफेद ही पहनता हूं तो मेरे तैयार होने में झंझट कम है। पर आज भी कहीं जाना हो तो मेरी पत्नी पांच साड़ियां बिस्तर पर रखती है, एक-एक को देखती है, फिर मुझसे पूछती है कि कौन वाली पहनूं?

कल अपनी परिजन Kamayanee Sharma जी ने लिखा कि रिजर्वेशन तो हो चुका है बस पहनूं क्या, ये बड़ी समस्या है।

उनके इस सवाल पर अपने Sanjay Omar जी ने अपनी पीड़ा कुछ इस तरह बयां की है, "उफ़्फ़ यह आप महिलाओं की कॉमन प्रॉबलम है क्या? जब से रिजर्वेशन हुआ है तब से श्रीमती जी की यही समस्या है,रोज शाम को जब मैं घर पहुंचता हूं तब पूंछा जाता है कि उस दिन क्या पहनूं?"

मैं जानता हूं ये महिलाओं की अदा है। महिलाएं हमेशा अपने परिधान को लेकर दुविधा में रहती हैं। उन्हें इस बात की चिंता रहती है कि वो हमेशा खूबसूरत दिखें।

महिलाएं खूबसूरत ही होती हैं। ईश्वर ने उन्हें खूबसूरत ही बनाया है। खूबसूरती का महिलाओं के साथ इस कदर नाता है कि अगर कोई पुरुष भी खूबसूरत हो तो उसे महिलाओं से जोड़ दिया जाता है। मेरी मां बचपन में मुझे ही दुलार से बेटी बुलाती थी। मां को लगता था कि उसका संजू बेटा इस संसार में सबसे सुंदर है। मां तो मेरे माथे पर काजल का टीका भी लगा देती थी, कहीं किसी की नज़र न लग जाए।

खैर, अभी बात हो रही थी आपकी तैयारियों की।

कई लोगों ने मुझे सलाह दी है कि भोपाल मिलन समारोह के लिए मैं ड्रेस कोड तय कर दूं। या फिर यूनिफार्म तय कर दूं।

बिल्कुल नहीं।

संजय सिन्हा फेसबुक परिवार रिश्तों का बगीचा है। यहां हर फूल को हक है खिलने का। जिसका जो मन हो, वो पहने। पुरुषों की मुझे चिंता नहीं क्योंकि वो कुछ भी पहनें वो वही रहेंगे। महिलाओं की बात अलग है। महिलाओं के लिए तो मेरी राय यही है कि वो सूटकेस में कई-कई ड्रेस लेकर आएं। वैसे भी उन्हें कौन सा सूटकेस उठाना है?

भोपाल पहुंच कर सबसे राय लेकर कपड़े पहन लीजिेगा। मेरी पत्नी भी ऐसा ही करेगी। सफर दो दिन का होगा, सामान जीवन भर का चलेगा।

इतने से नहीं होगा। आखिरी दिन तक किसी में बटन लगता रहेगा, किसी में गोटा फिर भी कुछ न कुछ छूट ही जाएगा।

यही खूबसूरती है रिश्तों के महामिलन की।

खूब तैयारी कीजिए इस जश्न में शामिल होने के लिए। मेरा वश चले तो एक कंपीटीशन सबसे बेहतरीन ड्रेस के लिए भी रखवा दूं और महिलाओं को ही उसका जज बना दूं।

फैसला क्या होगा, आप खुद ही समझ सकते हैं।

अपनी तैयारी जारी रखिए। यही है ज़िंदगी।

#SanjaySinha

#ssfbFamily

Recent Posts

See All

एक दिन

एक दिन ——— वो भागे जा रहे हैं। हम सब भाग रहे हैं। हम सारा दिन जीने की तैयारी में व्यस्त हैं। इतना कि जीने की फुर्सत ही नहीं। क्यों भाग रहे हैं, नहीं मालूम। कहां भाग रहे हैं, ये भी नहीं मालूम। मालूम है

बड़ा होना

नरेश ग्रोवर भैया अपने दोस्त के साथ एक उद्योगपति से मिलने गए थे। मैं जानता हूं कि आप तुरंत पूछ बैठेंगे कि नरेश ग्रोवर भैया कौन? देखिए, आप अपने परिजन हैं और आपको हक है मुझसे कुछ भी पूछने का। और मुझे अच्

वो घड़ी आ गई

वो घड़ी आ गई ----------- जिसका आपको था इंतज़ार, जिसके लिए दिल था बेकरार, वो घड़ी आ गई, आ गई, आ गई। जी हां, इंतज़ार की घड़ियां खत्म हुईं। #ssfbFamily मिलन समारोह की तारीख तय हो गई है। कायदे से मिलन समा

  • srttnjopr5lqq3ttmf6t.jpg
  • White Facebook Icon
  • White YouTube Icon
  • White Twitter Icon
  • White Instagram Icon
Quick Links

About ssFBfamily

© 2018 by Sanjay Sinha

Developed by www.studymantrasolutions.com